सरसो की खेती की देखभाल कैसे करे ,खाद और पानी ,स्प्रे कब करे .

फसल की पहली सिंचाई 35-40 दिन के बाद करें। जरूरत होने पर दूसरी सिंचाई फली में दाना बनते समय करें।

सरसो की खेती की देखभाल कैसे करे ,खाद और पानी ,स्प्रे कब करे .
X

सरसो की खेती की देखभाल कैसे करे ,खाद और पानी ,स्प्रे कब करे .

सरसों की बुआई का समय

बुआई के समय खेत में 100 किग्रा सिंगल सुपरफास्फेट, 35 किग्रा यूरिया और 25 किग्रा म्यूरेट आफ पोटाश का इस्तेमाल करें। फसल की पहली सिंचाई 35-40 दिन के बाद करें। जरूरत होने पर दूसरी सिंचाई फली में दाना बनते समय करें। फसल पर फूल आने के समय सिंचाई नहीं करनी चाहिए।

सरसों की पैदावार बढ़ाने के लिए क्या करें?

जिंक सल्फेट) का घोल बनाकर सरसों के फूल आने तथा फलियां बनते समय छिड़काव करना चाहिए। बोरॉन की कमी वाली मृदाओं में 10 कि. ग्रा. बोरेक्स प्रति हेक्टयर की दर से खेत में बआई से पूर्व मिला दिया जाए तो पैदावार में बढ़ोतरी होती है।

सरसों के खेत में कितने दिन में पानी देना चाहिए?

इस फसल में 1-2 सिंचाई करने से लाभ होता है। तोरिया की फसल में पहली सिंचाई बुआई के 20-25 दिन पर (फूल प्रारंभ होना) तथा दूसरी सिंचाई 50-55 दिन पर फली में दाना भरने की अवस्था पर करना लाभप्रद होगा। सरसों की बोनी बिना पलेवा दिये की गई हो तो पहली सिंचाई बुआई के 30-35 दिन पर करें।

सरसों में यूरिया कब दिया जाता है?

सरसों की खड़ी फसल में थायो यूरिया 0.1 एक प्रतिशत के दो छिड़काव 45 दिन 60 दिन पर करने से उपज एवं तेल की मात्रा में काफी बढ़ोतरी होती है। उपनिदेशक सिंह ने बताया कि जिले में गेहूं फसल की बुवाई का समय नवंबर के अंतिम सप्ताह तक है। गेहूं की फसल में 120 किलो नत्रजन (250 से 280 किलो यूरिया उर्वरक) प्रति हैक्टेयर डालना चाहिए।

1 एकड़ खेत में कितना डीएपी डालना चाहिए?

अगर 1 एकड़ में डीएपी के सही इस्तेमाल की बात करें तो इस खाद को प्रति एकड़ में 50 किलो तक ही इस्तेमाल करना चाहिए.

सरसों में खरपतवार नियंत्रण कैसे करें?

खरपतवार नियंत्रण के रासायनिक उपाय:- रसायन द्वारा खरपतवार नियंत्रण करने पर बुआई से पूर्व फ्लूक्लोरोलिन 45 ई.सी. की 880 मिली० प्रति 300-400 लीटर पानी में घोलकर प्रति एकड़ की दर से छिड़काव कर भली-भांति हैरो चलाकर मिट्टी में मिला देना चाहिए।

सरसों की सिंचाई कितनी बार करनी चाहिए?

सरसों की फसल में पहली सिंचाई 25 से 30 दिन पर करनी चाहिए तथा दूसरी सिंचाई फलियाें में दाने भरने की अवस्था में करना चाहिए, यदि जाड़े में वर्षा हो जाती है, तो दूसरी सिंचाई न भी करें तो भी अच्छी उपज प्राप्त की जा सकती है। ध्यान रहे सरसों में फूल आने के समय खेत की सिंचाई नहीं करनी चाहिए।

60 दिन में पकने वाली सरसों कौन सी है?

पूसा सरसों - 32 की खेती 60 दिन की फसल

सरसों में यूरिया का स्प्रे कैसे करें?

सरसों में बिजाई के 45 दिन बाद पहली सिंचाई करनी चाहिए, जिसमें प्रति एकड़ 100 लीटर पानी में 2 किलो यूरिया और आधा किलो जिंक का घाेल बनाकर छिड़काव करना चाहिए। सरसों में इस घोल का छिड़काव 2 बार करना चाहिए। पहला छिड़काव 45 दिन बाद तो दूसरा छिड़काव इसके 20 दिन बाद किया जाना चाहिए।

सबसे ज्यादा पैदावार देने वाली सरसों कौन सी है?

पायनियर सरसों की पैदावार सबसे अधिक होती है. इसलिए इस इस ब्रांड के बीज आपको कहीं भी बहुत आसानी से मिल जायेंगे.

Next Story
Share it