जैविक खेती: गोबर की खाद से उत्पादन में आवश्यक वृद्धि,फसल में इसके फायदे जानकर हैरान रह जाओगे.

जिन किसानों ने गोबर की खाद डालना शुरू किया, उनके खेतों में उत्पादन में वृद्धि हुई है। ये खिसियान बता रहे हैं कि एक एकड़ में गेहूं का उत्पादन 20-22 क्विंटल तक बढ़ गया है.

जैविक खेती: गोबर की खाद से उत्पादन में आवश्यक वृद्धि,फसल में इसके फायदे जानकर हैरान रह जाओगे.
X

जैविक खेती: गोबर की खाद से उत्पादन में आवश्यक वृद्धि,फसल में इसके फायदे जानकर हैरान रह जाओगे.

गोबर की खाद डालने से खेती में अद्भुत फर्क हो सकता है! इस लेख में, हम देखेंगे कि गोबर की खाद कैसे उत्पादन को बढ़ा सकती है और यह यूरिया DAP की तुलना में कैसे है।

गोबर की खाद और यूरिया DAP:

एक किसान की दास्तान से हम देख सकते हैं कि जिन किसानों ने गोबर की खाद डालना शुरू किया, उनके खेतों में उत्पादन में वृद्धि हुई है। ये खिसियान बता रहे हैं कि एक एकड़ में गेहूं का उत्पादन 20-22 क्विंटल तक बढ़ गया है, जो पहले 12 क्विंटल था। गोबर की खाद विभिन्न जीवाणुओं का भोजन होती है और यह उत्पादन को बढ़ाने में मदद कर सकती है, जबकि यूरिया और DAP रसायनिक खाद हैं जो जीवाणुओं को मार सकती हैं।

गोबर के लाभ:

गोबर की खाद का उपयोग करने से केंचुआ मर जाता है, जिससे खेत में जीवाणु संख्या कम होती है।

गोबर के जीवाणुओं का खोजना जिंदगी भर तक मिट्टी को फुर्तीला बनाए रखता है।

गोबर की खाद से खेत को तैयार करने में खर्च कम होता है, जो किसानों को बचत प्रदान करता है।

गोबर की खाद डालने का तरीका:

गोबर की खाद तैयार करने के लिए एक आसान तरीका निम्नलिखित है:

सामग्री:

10 किलो गोबर

10 लीटर मूत्र

1 किलो गुड़

1 किलो पिसी हुई दाल या चोकर

1 किलो मिट्टी (पेड़ के नीचे की पीपल, बरगद के पेड़ की मिट्टी)

तैयारी:

सभी सामग्री को एक पलास्टिक ड्रम में मिला लें।

15 दिनों तक धूप में रखें, रोजाना एक बार मिलाएं।

गोबर की खाद तैयार:

15 दिनों के बाद, घोल को पानी के साथ मिलाएं (10 गुना पानी)।

खाद तैयार है, इसे खेत में छिड़कें।

गोबर की खाद का सही तरीका:

खेत में छिड़ाने से पहले, खेत की जुताई के बाद एक दिन छोड़ दें।

बीज बोने के बाद, हर 21 दिनों में खाद छिड़ाएं।

खेत का आकार बड़ा होने पर, गोबर खाद को छिड़ाने के लिए नाली से पानी मिलाएं।

गोबर की खाद खेती में सुधार करने का एक अद्वितीय तरीका है। इससे न केवल उत्पादन में वृद्धि होती है, बल्कि यह पूरी खेती को सुस्त और सस्ती से बनाए रखने में मदद करता है। जैविक खेती और गोबर की खाद का सही उपयोग करने से हम न केवल खुद को स्वस्थ रख सकते हैं, बल्कि पृथ्वी को भी सुरक्षित रख सकते हैं।

Next Story
Share it