बकरी पालन: युवा किसान ने बदली किस्मत, हर महीने ₹1 लाख से ज्यादा का मुनाफा कैसे कमाया.

बकरी पालन से एक लाख से ज्यादा रुपये महीने कमाने का साबित किया है.

बकरी पालन: युवा किसान ने बदली किस्मत, हर महीने ₹1 लाख से ज्यादा का मुनाफा कैसे कमाया.
X

बकरी पालन: युवा किसान ने बदली किस्मत, हर महीने ₹1 लाख से ज्यादा का मुनाफा कैसे कमाया.

आज के युवा किसान अमोल गंगाराम शिरकर ने बकरी पालन से बनाया एक सफल व्यापार, जिससे वह हर महीने ₹1 लाख से ज्यादा का मुनाफा कमा रहे हैं. इस लेख में, हम उनके बकरी पालन व्यापार की कहानी को जानेंगे, जिसने न केवल उनकी जिंदगी को बदला बल्कि अन्य किसानों को भी प्रेरित किया है.

यह योजना महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले के रहने वाले अमोल के उत्कृष्ट कार्य की बात कर रही है, जो ने बकरी पालन से एक लाख से ज्यादा रुपये महीने कमाने का साबित किया है.

ट्रेनिंग और शुरुआत:

अमोल ने बकरी पालन व्यापार में कदम रखने से पहले सरकारी संस्था से 2 महीने की ट्रेनिंग ली. उसने श्रीराम ग्रामीण संशोधन एवं विकास प्रतिष्ठान के कृषि-क्लिनिक और कृषि-व्यवसाय केंद्र की योजना के तहत उद्यमशीलता कौशल के लिए ट्रेनिंग प्राप्त की.

बैंक लोन और उद्यमशीलता:

उन्होंने बैंक ऑफ इंडिया से 5 लाख रुपये का लोन लेकर बकरी पालन व्यवसाय शुरू किया. इस लोन से उन्होंने एक बकरी पालन यूनिट स्थापित की, जिससे वे अच्छे आर्थिक उत्तरदाता बने.

विभिन्न नस्लों का पालन:

अमोल ने विभिन्न बकरी नस्लों का पालन करके व्यापार में सकारात्मक परिणाम प्राप्त किए हैं. उनकी बकरियों में जमुनापारी, शिरोही, कोटा, और वेस्ट बंगाल जैसी नस्लें शामिल हैं. इसके अलावा, उन्होंने बकरी कंसल्टेंसी सर्विसेज भी शुरू की है, जिससे वह अन्य किसानों को भी उचित सलाह दे रहे हैं.

मुनाफा और रोजगार सृजन:

उनके व्यापार का सालाना टर्नओवर 15 लाख रुपये है, जिससे वह हर महीने एक लाख से ज्यादा रुपये कमा रहे हैं. उन्होंने अपनी इकाई में 15 मजदूरों को रोजगार प्रदान किया है, जो गाँवों में रोजगार के अवसरों को बढ़ाने में मदद कर रहे हैं.

सब्सिडी और सहायता:

अमोल को नाबार्ड के एक्सटेंशन सर्विसेज के लिए 36% सब्सिडी मिली है, जो उन्हें और भी अधिक उत्साही बनाती है. इसके माध्यम से, उन्होंने अपनी सर्विसेज को और भी प्रभावी बनाने के लिए नए योजनाओं की ओर बढ़ने का निर्णय लिया है.

अमोल गंगाराम शिरकर की यह कहानी दिखाती है कि कम पूंजी और छोटी जगह में भी किसानों के लिए बकरी पालन एक उत्कृष्ट विकल्प हो सकता है. उनकी उद्यमशीलता और योजना बनाए रखने की क्षमता ने उन्हें न केवल अपने परिवार के लिए बल्कि समृद्धि बढ़ाने के लिए बड़ा उदाहरण साबित किया है. उनकी कड़ी मेहनत, योजना, और सरकारी सहायता ने उन्हें एक सफल और लाभकारी व्यापारी बना दिया है.

Next Story
Share it