डबल मुनाफा: 3 महीने में हरे मटर की खेती करें, जानिए उन्नत विधि और किस्में.

आपके खेत से बेहतर कुछ नहीं! कम लागत में डबल मुनाफा प्राप्त करें, हरे मटर की खेती के सरल और उन्नत तरीकों से।

डबल मुनाफा: 3 महीने में हरे मटर की खेती करें, जानिए उन्नत विधि और किस्में.
X

डबल मुनाफा: 3 महीने में हरे मटर की खेती करें, जानिए उन्नत विधि और किस्में.

आपके खेत से बेहतर कुछ नहीं! कम लागत में डबल मुनाफा प्राप्त करें, हरे मटर की खेती के सरल और उन्नत तरीकों से।

जुताई के साथ खाद डालें:

खेत को दो बार अच्छे से जुताई करें, ताकि मिट्टी भुरभुरी हो जाए।

जुताई के समय, सड़ी गोबर की खाद डालें।

यह मटर की फसल के लिए पौष्टिकता और सहारा प्रदान करेगा।

बुवाई का सही समय:

बुवाई का समय अक्टूबर और नवंबर में हो सकता है, लेकिन ठंड शुरू होने से पहले होना चाहिए।

मटर की बुवाई के बाद, बर्फबारी से बचने के लिए बारिश की संभावना न हो।

बीज अंकुरण:

बीज अंकुरण के लिए सही तापमान 22 डिग्री सेल्सियस होना चाहिए।

पौधों के उच्च विकास के लिए 10 से 18 डिग्री सेल्सियस तापमान आदर्श है।

सिंचाई की विशेषज्ञता:

फसल को बचाने के लिए अधिक सिंचाई की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि ठंड में खेत में पर्याप्त नमी होती है।

अगर सिंचाई करनी है, तो फूल और फली आने के समय ही करें, हल्की सिंचाई के साथ।

. उन्नत किस्में:

उचित किस्म का चयन करें, जैसे आर्केल, काशी शक्ति, पंत मटर 155, अर्ली बैजर, आजाद मटर 1, और और।

मिट्टी, जलवायु, और क्षेत्र के अनुसार सही किस्म का चयन करें।

मुनाफा की गणना:

उचित कृषि प्रबंधन के साथ, हर हेक्टेयर पर 18 से 30 क्विंटल तक की उपज हो सकती है।

लागत लगभग 20 हजार रुपए है, जबकि मुनाफा 90 हजार रुपए तक पहुंच सकता है।

इससे किसान भाई आसानी से 70 हजार रुपए का शुद्ध मुनाफा प्राप्त कर सकते हैं।

हरे मटर की खेती में सफलता प्राप्त करने के लिए उपरोक्त उन्नत विधियों का पालन करें। सही समय, सही खाद, और उन्नत किस्मों का चयन करके किसान भाई डबल से भी अधिक मुनाफा कमा सकते हैं।

खेती में सफलता प्राप्त करने के लिए स्थानीय उम्मीदवार और विशेषज्ञों से सलाह लें, और स्थानीय अधिकारियों के निर्देशों का पालन करें।

Next Story
Share it