Animal Husbandry: आज ही शुरू करें पशुपालन! सरकार दे रही है 90% सब्सिडी, जल्द करें आवेदन

Animal Husbandry: आज ही शुरू करें पशुपालन! सरकार दे रही है 90% सब्सिडी, जल्द करें आवेदन
X

देशभर में किसान खेती के साथ-साथ पशुपालन भी करते हैं, जिससे दूध, दही और घी बेचकर वे अच्छी कमाई करते हैं। इसलिए अनेक राज्यों की सरकारें पशुपालन को बढ़ावा देने के लिए किसानों को सब्सिडी प्रदान करती हैं। यह सरकारों का मानना है कि गांवों में छोटे और सीमांत किसानों की इनकम में वृद्धि के लिए पशुपालन एक अत्यंत उपयोगी व्यावसाय है। यहां गाय और भैंस का पालन करके किसान अपनी कमाई को बढ़ा सकते हैं।

बहुत से गांवों में किसान पशुओं को खरीदने में पैसे की कमी के कारण संकोच करते हैं। इसलिए सरकार ऐसे किसानों को दूध देने वाले पशुओं की खरीद के लिए सब्सिडी प्रदान करती है। इस सब्सिडी से किसान गाय या भैंस खरीदकर दूध का व्यापार शुरू कर सकते हैं।

वर्तमान में, झारखंड सरकार किसानों को दूध देने वाले पशुओं की खरीद पर 90% सब्सिडी प्रदान कर रही है। इस सब्सिडी योजना का लाभ लेने के लिए कई किसानों ने सरकार का साथ दिया है। तो, यदि आपको भी गाय-भैंस खरीदनी हो, तो यह आपके लिए बेहतरीन मौका हो सकता है।

महज 10 प्रतिशत ही पैसे खर्च करने पड़ेंगे

हेमंत सुरेन की मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना के अंतर्गत, झारखंड के किसानों को सब्सिडी दी जा रही है। मुख्यमंत्री सुरेन का मानना है कि झारखंड में अधिकांश लोग गांवों में निवास करते हैं और कृषि के क्षेत्र में जुड़े हुए हैं। वह मानते हैं कि यदि इन लोगों ने खेती के साथ-साथ पशुपालन भी शुरू किया, तो उनकी आय में वृद्धि हो सकती है। इसलिए राज्य सरकार ने पशुओं की खरीद पर 90% सब्सिडी देने का फैसला किया है। इसका मतलब है कि किसानों को सिर्फ अपनी जेब से मात्र 10% खर्च करना होगा।

सरकार ने इस योजना को लॉन्च किया है

इस योजना के तहत सीएम सुरेन की सरकार महिलाओं को मवेशी खरीदने पर 90 प्रतिशत सब्सिडी दे रही है. वहीं, अन्य वर्ग के लोगों को 75 प्रतिशत ही अनुदान का लाभ मिलेगा. खास बात यह है कि इस योजना का लाभ पूरे प्रदेश के किसान भाई उठा सकते हैं. दरअसल, सरकार राज्य में दूध उत्पादन के साथ- साथ जैविक खेती को भी बढ़ावा देना चाहती है. इसलिए सरकार ने इस योजना को लॉन्च किया है.

केवल झारखंड के निवासी ही इस योजना का लाभ उठा सकते हैं

सीएम हेमंत सुरेन का मानना है कि जितनी अधिक राज्य में मवेशियों की संख्या होगी, उतना अधिक दूध के साथ- साथ गोबर का भी उत्पादन होगा. ऐसे में राज्य में प्राकृतिक और जैविक खेती को बढ़ावा मिलेगी. अगर किसान भाई मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना का लाभ उठाना चाहते हैं, तो आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन कर सकते हैं. खास बात यह है कि केवल झारखंड के निवासी ही इस योजना का लाभ उठा सकते हैं.

Tags:
Next Story
Share it