डिग्रीधारी सूर्य कुमार ने चुनी किसानी, B.Sc के बाद भी नहीं मिली नौकरी, तो शुरू की सब्जियों की खेती, 4 बीघा से करते हैं 7 लाख रुपए की कमाई

किसान सूर्य कुमार मौर्य ने अपनी 3 बीघे की जमीन पर फूल गोभी, टमाटर, पत्ता गोभी, मिर्च, बैंगन जैसी सब्जियों की खेती की है

डिग्रीधारी सूर्य कुमार ने चुनी किसानी, B.Sc के बाद भी नहीं मिली नौकरी, तो शुरू की सब्जियों की खेती, 4 बीघा से करते हैं 7 लाख रुपए की कमाई
X

डिग्रीधारी सूर्य कुमार ने चुनी किसानी, B.Sc के बाद भी नहीं मिली नौकरी, तो शुरू की सब्जियों की खेती, 4 बीघा से करते हैं 7 लाख रुपए की कमाई

रायबरेली: जब सरकारी नौकरी नहीं मिली, तो बेरोज़गारी के बावजूद यहाँ के एक किसान ने कृषि क्षेत्र में बड़ा कदम उठाया है। भारतीय कृषि जगत में बदलाव लाने वाले सूर्य कुमार मौर्य ने बताया कि उन्होंने अपनी पुश्तैनी जमीन पर सब्जियों की खेती करके न केवल अपनी कमाई बढ़ाई है बल्कि गांव के लोगों को भी रोजगार प्रदान किया है।

बेरोज़गारी से पीछा छूटा

सूर्य कुमार मौर्य ने लखनऊ विश्वविद्यालय से कृषि विज्ञान (B.Sc) से स्नातक की पढ़ाई पूरी की और इसके बाद एक निजी कॉलेज से इलेक्ट्रीशियन ट्रेड से डिप्लोमा किया। नौकरी की तलाश में सफलता प्राप्त नहीं होने पर, उन्होंने अपने घर पर ही सब्जियों की खेती शुरू की।

बदला कृषि का चेहरा

मौर्य ने बताया कि उन्होंने अंत:फसलीकरण विधि का अपनाया, जिससे उनके खेतों में खरपतवार नहीं लगता। इससे मेहनत कम और मुनाफा ज्यादा होता है। उनका खेत में खरपतवार कम होने के कारण फसलों में कीड़े भी नहीं लगते और रासायनिक दवाओं का इस्तेमाल नहीं करना पड़ता।

सब्जियों की खेती में लागत कम, मुनाफा ज्यादा

किसान सूर्य कुमार मौर्य ने अपनी 3 बीघे की जमीन पर फूल गोभी, टमाटर, पत्ता गोभी, मिर्च, बैंगन जैसी सब्जियों की खेती करते हुए बताया कि उनकी लागत लगभग 30 से 40 हजार रुपए है। इसके सापेक्ष सालाना उनकी कमाई 6 से 7 लाख रुपए है, जिससे गांव के कई लोगों को रोजगार भी उपलब्ध हो रहा है।

बाजार में हैं उनकी सब्जियों की मांग

मौसम के अनुकूल में, मौर्य की सब्जियों की मांग ठंड के इस मौसम में बहुत अच्छी है। रायबरेली से लेकर लखनऊ तक, वह अपनी उत्पादों को बाजार में सफलता से बेच रहे हैं।

Tags:
Next Story
Share it