किसान भाई ध्यान दे! आज ही शुरू करे काले सेब की खेती, कुछ ही महीनों में हो जाएंगे मालामाल

किसान भाई ध्यान दे! आज ही शुरू करे काले सेब की खेती, कुछ ही महीनों में हो जाएंगे मालामाल
X

आपने शायद लाल और हरे रंग के सेब देखे हों, लेकिन क्या आपने कभी काले रंग के सेब को ध्यान से देखा है? हां, बात हो रही है काले रंग के सेब की। सेब के अनेक प्रकार होते हैं, जिनमें स्वाद और गुण भिन्न होते हैं। इस बात की जानकारी शायद आपके लिए नई हो, लेकिन 'ब्लैक डायमंड एप्पल' नाम से मशहूर किया जाने वाला सेब वास्तव में अत्यंत दुर्लभ होता है।

इसे दुनिया के किसी भी कोने में आसानी से नहीं पाया जा सकता। ब्लैक डायमंड एप्पल को उगाने के लिए विशेष मौसम और माहौल की आवश्यकता होती है। यह सेब अक्सर भूटान की पहाड़ियों पर पाया जाता है। 'हुआ नियू' नाम से भी इसे जाना जाता है। और बात करें इसके स्वाद की, तो यह सेब कुरकुरा और बेहद रसदार होता है।

ब्लैक डायमंड एप्पल सेहत के लिए उत्तम माना जाता है। इसमें हाई सॉल्युबल फाइबर होता है, जो कोलेस्ट्रॉल को कम करने और हृदय रोग की रोकथाम में मदद करता है। इसमें इनसोल्युबल फाइबर भी होता है, जो पाचन को सुधारने में सहायक होता है।

ब्लैक डायमंड एप्पल में विटामिन सी और विटामिन ए के साथ-साथ पोटेशियम और आयरन भी भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। इसमें एंटीऑक्सिडेंट्स भी होते हैं, जो शरीर को फ्री रेडिकल्स के खिलाफ लड़ने में मदद करते हैं।

काले सेब की कीमत इतनी होती है

ब्लैक डायमंड एप्पल की कीमत प्रति सेब लगभग 500 रुपये तक हो सकती है। इसकी मूल्य विभिन्नता दिखाती रहती है। इसे उगाने में खास सावधानी और विशेष कौशल की आवश्यकता होती है। इसके अतिरिक्त, इसकी उत्पादन दर अन्य सेबों की तुलना में कम होती है, जिसके कारण इसकी मूल्य संबंधी बढ़ोतरी होती है। ब्लैक डायमंड एप्पल के पेड़ को फलदार बनने में 8 वर्ष तक का समय लगता है।

कैसे उगता है काला सेब

ब्लैक डायमंड एप्पल की खेती के लिए सही मिट्टी और उचित तापमान आवश्यक होते हैं। इसे उगाने के लिए तिब्बत की भूमि सबसे अनुकूल मानी जाती है। यहां दिन में सूरज की रोशनी और अल्ट्रावायलेट रेज सीधे फलों पर पड़ती हैं, और रात को तापमान अचानक गिर जाता है, जिससे सेब का रंग काला हो जाता है। हालांकि धूप पड़ने पर, ब्लैक डायमंड एप्पल बैंगनी रंग धारण करता है।

इन फलों का अंदर भी सफेद रंग होता है। इनको धूप और बाहरी तापमान का असर नहीं पड़ता। इनकी विशेषता और गुणवत्ता काफी अलग होती है। इनकी काली रंगत और चमक के कारण लोगों ने इन्हें 'ब्लैक डायमंड' कहा है। तिब्बत के ये फल ही अनोखे नहीं हैं। वहाँ के फूल और अन्य पौधों की भी रंग-रूप में अलगाव होता है।

8 साल में उगते हैं फल

आमतौर पर साधारण सेब के पेड़ से 4 से 5 साल के अंदर फलों का प्रोडक्शन मिल जाता है, लेकिन काले रंग का सेब उगाने में भी बड़ी मशक्कत करनी होती है। पौधों की रोपाई के बाद 8 साल तक पेड़ की देखभाल की जाती है, तब जाकर फलों का प्रोडक्शन मिलता है।

एक तरफ हर साल लाल रंग के सेबों का 80 फीसदी उत्पादन मिल जाता है, लेकिन ब्लैक डायमंड एप्पल का पेड़ एक साल में 30 फीसदी ही फल देता है, जो उत्पादन मिलता है, वो भी दूसरे देशों को निर्यात कर दिया जाता है। यही वजह है कि इसकी वैल्यू और कीमत भी काफी ज्यादा है।

Tags:
Next Story
Share it