Grass Subsidy: हाथी घास की खेती पर सरकार दे रही 10 हजार रुपए का लाभ, फटाफट ऐसे उठाए लाभ

Grass Subsidy: हाथी घास की खेती पर सरकार दे रही 10 हजार रुपए का लाभ, फटाफट ऐसे उठाए लाभ
X

गर्मी के मौसम में गायों और भैंसों की दूध देने की क्षमता कम हो जाती है। इस समय में उन्हें हरी-हरी घास के रूप में चारा दिया जाता है ताकि उनके शरीर में पानी की कमी न हो और वे दूध देने में सक्षम रहें। लेकिन, गर्मियों में घास उगाना मुश्किल हो जाता है, क्योंकि हर 3 से 5 दिनों पर सिंचाई की जरूरत पड़ती है।

हालांकि, अब किसानों को इस बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। सरकार ने हाथी घास की खेती पर बंपर सब्सिडी देने का ऐलान किया है। इस तरह की घास की खेती से जिन किसानों को फायदा होगा, उन्हें अब यह सुनहरा मौका मिल गया है। इस घास को खिलाने से गायें और भैंसें अधिक दूध देने लगती हैं।

हाथी घास पशुओं के स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद है। गर्मी के मौसम में अगर आप अपने पशुओं को हाथी घास चारे के रूप में खिलाते हैं, तो उनका पाचन तंत्र स्वस्थ रहेगा और वे स्वस्थ बने रहेंगे। हाथी घास की विशेषता है कि इसे आप किसी भी मौसम में उगा सकते हैं।

अगर किसान भाइयों ने अभी हाथी घास की खेती शुरू की है, तो उन्हें राजस्थान सरकार द्वारा प्रति हेक्टेयर 10,000 रुपये की सब्सिडी प्रदान की जाएगी। राजस्थान के किसान इस सब्सिडी का लाभ उठाना चाहते हैं, तो वे आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन कर सकते हैं।

हाथी घास बिल्कुल गन्ने की तरह दिखता है

हाथी घास को नेपियर खास भी कहा जाता है। इसकी खासियत यह है कि यह गन्ने की तरह दिखती है और इसकी ऊंचाई 4 मीटर तक हो सकती है। हाथी घास की फार्मिंग आप साल भर कर सकते हैं और इसमें कई पोषक तत्व होते हैं। गायों और भैंसों को इसे खाने से ज्यादा दूध देने लगती हैं। इसी कारण राजस्थान सरकार ने नेपियर घास पर सभी ग्राम पंचायतों में सब्सिडी देने का निर्णय किया है।

कृषि अधिकारी फिजिकल सत्यापन करेंगे

जानकारी के मुताबिक, फिजिकल सत्यापन के बाद किसानों को सब्सिदी दी जाएगी. कृषि अधिकारी फिजिकल सत्यापन करेंगे. सब्सिडी का लाभ लेने के लिए किसानों को राज किसान साथी पोर्टल पर जाकर अप्लाई करना होगा. खास बात यह है कि भौतिक सत्यापन के बाद किसानों के खाते में सब्सिडी की राशि सीधे ट्रांसफर की जाएगी.

Tags:
Next Story
Share it