सर्दी की मार से आलू की फसल बचाना इतना आसान नहीं है, किसान भाइयों, यहां जाने कृषि वैज्ञानिकों की जरूरी सलाह, उत्पादन में नहीं आएगी कमी

कृषि वैज्ञानिक डॉ. एके राय बताते हैं कि ठंड बढ़ने से आलू के पौधों में लेट ब्लाइट और अर्ली ब्लाइट की बीमारी हो सकती है,

सर्दी की मार से आलू की फसल बचाना इतना आसान नहीं है, किसान भाइयों, यहां जाने कृषि वैज्ञानिकों की जरूरी सलाह, उत्पादन में नहीं आएगी कमी
X

सर्दी की मार से आलू की फसल बचाना इतना आसान नहीं है, किसान भाइयों, यहां जाने कृषि वैज्ञानिकों की जरूरी सलाह, उत्पादन में नहीं आएगी कमी

आलू, एक ऐसी सब्जी है जो हर किचन में अपनी जगह बना चुकी है। इसकी खेती तो सर्दी के मौसम में भी होती है, लेकिन ठंड में इसकी देखभाल करना आसान नहीं है। इस लेख में, हम जानेंगे कृषि वैज्ञानिक के सुझावों के बारे में, जिनसे किसान ठंड में आलू की खेती में सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

कृषि वैज्ञानिक की सलाह

आलू की खेती में सफलता प्राप्त करने के लिए, किसानों को कृषि वैज्ञानिक की सलाह अवश्य लेनी चाहिए। ठंड में आलू के पौधों को बचाने के लिए उन्हें कृषि विज्ञान केंद्र से सहायता मिल सकती है।

ठंड में आलू की देखभाल में जरूरी सुझाव

कृषि वैज्ञानिक डॉ. एके राय बताते हैं कि ठंड बढ़ने से आलू के पौधों में लेट ब्लाइट और अर्ली ब्लाइट की बीमारी हो सकती है, जिससे किसानों को नुकसान हो सकता है। इससे बचने के लिए कृषि विज्ञान के सुझावों का पालन करना अत्यंत महत्वपूर्ण है।

कृषि वैज्ञानिक की मार्गदर्शन में आलू की खेती

किसान जब आलू के पौधों में किसी परेशानी का सामना करता है, तो उसे कृषि विज्ञान केंद्र से सहायता मिल सकती है। यहां कृषि वैज्ञानिक पौधे की जांच कर उसके वास्तविक कारण और उपचार की सलाह देंगे।

आलू की बेहतर पैदावार के लिए उपाय

कोडरमा जिले में मिट्टी की क्वालिटी को ध्यान में रखते हुए, कृषि वैज्ञानिक ने बताया कि यहां प्रति एकड़ 50 से 60 क्विंटल आलू का उत्पादन हो सकता है। यह तकनीकी उपायों के माध्यम से आलू की पैदावार में वृद्धि करने के लिए किसानों को संजीवनी हो सकती है। ठंड में आलू की खेती के लिए सही तकनीकी उपायों का पालन करके, किसान अच्छी पैदावार हासिल कर सकते हैं और नुकसान से बचा सकते हैं।

Tags:
Next Story
Share it