मेजर नहर से पानी देने का मामला: प्रशासन व विभागीय अधिकारी कर रहे सरासर अनदेखी, ग्रामीणों में रोष

मेजर नहर से पानी देने का मामला: प्रशासन व विभागीय अधिकारी कर रहे सरासर अनदेखी, ग्रामीणों में रोष
X

मेजर नहर से पानी देने का मामला: प्रशासन व विभागीय अधिकारी कर रहे सरासर अनदेखी, ग्रामीणों में रोष

खेत खजाना, सिरसा। हरियाणा सिंचाई विभाग व पब्लिक हैल्थ विभाग द्वारा सिरसा मेजर नहर से ढाणी शाह सतनाम पुरा व उसके साथ लगती कॉलोनियों को पीने का पानी देने के विरोध में ग्रामीणों का धरना अनवरत जारी है। धरने पर बैठे किसान मक्खन सिंह बाजेकां, कृष्ण कुमार अलीमोहम्मद, जसवंत राड़ फूलकां, हरकिशन लाल बेगू, रामकृष्ण वैदवाला सहित अन्य ग्रामीणों ने बताया कि तत्कालीन उपायुक्त पार्थ गुप्ता ने ग्रामीणों व अधिकारियों की एक कमेटी बनाई थी और जल्द रिपोर्ट देने के आदेश दिए थे, लेकिन अधिकारियों ने मामले के प्रति जरा भी गंभीरता नहीं दिखाई।

उन्होंने बताया कि अभी तक अधिकारियों की तरफ से ग्रामीणों को मीटिंग के लिए बुलाया ही नहीं गया। ग्रामीणों का कहना है कि राजनीतिक दबाव के कारण ही प्रशासन व अधिकारी इस मामले में कोई संज्ञान नहीं ले रहे, जिससे ग्रामीणों के सब्र का बांध टूटता जा रहा है। उन्होंने बताया कि बाजेकां गांव के नजदीक मोघा नंबर 1451002 मंजूर किया गया था, जबकि इन्हें पीने का पानी डेरा के साथ बहती बन मंदोरी माइनर में से पर्याप्त मात्रा में दिया जा रहा है, लेकिन इसके बावजूद सिंचाई विभाग व पब्लिक हैल्थ विभाग द्वारा सिरसा मेजर नहर से मोघे डालकर पानी देने की योजना बनाई जा रही है।

उन्होंने बताया कि गांव बाजेकां, फूलकां, नेजियाखेड़ा, खाजाखेड़ा, शाहपुर बेगू, कंगनपुर, वैदवाला व सिकंदरपुर गांवों के किसान संयुक्त रूप से इस मोघे का विरोध कर रहे हंै। क्योंकि अगर मेजर नहर से शाह सतनामपुरा व अन्य कॉलोनियों को पानी की सप्लाई होती है तो इन गांवों में पेयजल का संकट गहरा जाएगा। उन्होंने प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा कि जब तक मोघे को रद्द नहीं किया जाता, तब तक उनका धरना जारी रहेगा।

Next Story
Share it