सरकार दे रही है गेंदे के फूल की खेती करने पर 28 हजार रुपए का लाभ! फटाफट ऐसे उठाए लाभ

सरकार दे रही है गेंदे के फूल की खेती करने पर 28 हजार रुपए का लाभ! फटाफट ऐसे उठाए लाभ
X

खेती-किसानी में कई परिवर्तन आ गए हैं। किसान अब पारंपरिक फसलों की बजाय कम लागत में अधिक मुनाफा देने वाली फसलों की खेती की ओर मोड़ रहे हैं। गेंदे का फूल भी इसी प्रकार की फसलों में शामिल है। बिहार सरकार ने इस फसल की खेती करने वाले किसानों को 70 प्रतिशत सब्सिडी देने का निर्णय लिया है।

गेंदे के फूल की खेती पर 28 हजार रुपये

बिहार सरकार द्वारा प्रस्तुत एकीकृत बागवानी विकास मिशन योजना के अंतर्गत, गेंदा फूल की खेती को बढ़ावा देने के लिए 70% की अनुदान सहायता उपलब्ध कराई जा रही है। इस योजना के तहत, प्रति हेक्टेयर गेंदे के फूल की लागत को 40,000 रुपये में रखा गया है।

इसके अनुसार, 70% सब्सिडी के आधार पर किसानों को गेंदे की खेती पर 28,000 रुपये की अनुदान सुनिश्चित होगी। योजना का लाभ उठाने के लिए किसान वेबसाइट http://horticulture.bihar.gov.in पर आवेदन कर सकते हैं।

कम समय में फसल तैयार हो जाती है

गेंदे के फूल की खासियत यह है कि यह 45 से 60 दिनों में पक्का हो जाता है और तुरंत कटाई के लिए तैयार हो जाता है। यह बारहमासी पौधा होता है और इसे साल भर में तीन बार उगाया जा सकता है। इसके अलावा, इसकी मांग भी त्योहारों में बढ़ जाती है क्योंकि इसे उपयोग की जाती है।

कम लागत ज्यादा मुनाफा

विशेषज्ञों के अनुसार, गेंदे की खेती में एक एकड़ में सिंचाई, गुड़ाई और निड़ाई के साथ लगभग 40 हजार रुपये की लागत में 2 से 4 लाख रुपये तक का मुनाफा हो सकता है। ऐसे में, छोटे और सीमित किसानों के लिए पारंपरिक फसलों के मुकाबले यह एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है।

गेंदे के पौधे में औषधीय गुण मौजूद

गेंदे के फूल की पत्तियों में औषधीय गुण समाहित होते हैं, ऐसे में इसे पशुओं के द्वारा खराब भी नहीं किया जाता है. साथ ही इनके पौधों पर लाल मकड़ी के अलावा कोई कीट भी नहीं लगता है. ऐसे में अन्य फसलों के मुकाबले इसके रख-रखाव में कोई दिक्कत नहीं होती है. इसके पौधे लगाने से मिट्टी के अंदर लगने वाली कई बीमारियां भी दूर हो जाती हैं.

Tags:
Next Story
Share it