खाने को अनाज नहीं था, लेकिन फिर पलटी इस महिला की किस्मत, लोन पर पैसे लेकर शुरू की आलू की खेती, अब हो रही बंपर कमाई

पुतुल देवी की मेहनत और सही दिशा में कदम रखने ने उन्हें सालाना लाखों रुपए तक की आमदनी प्रदान कि है।

खाने को अनाज नहीं था, लेकिन फिर पलटी इस महिला की किस्मत, लोन पर पैसे लेकर शुरू की आलू की खेती, अब हो रही बंपर कमाई
X

खाने को अनाज नहीं था, लेकिन फिर पलटी इस महिला की किस्मत, लोन पर पैसे लेकर शुरू की आलू की खेती, अब हो रही बंपर कमाई


पथरगामा प्रखंड के चिलकारा गांव की रहने वाली पुतुल देवी ने कुछ वर्ष पहले अपनी आर्थिक स्थिति में कठिनाईयों का सामना किया। हालांकि, उन्होंने अपनी मेहनत और जिएसएलपीएस के साथ मिलकर अपने जीवन को कैसे पलटा, आईए जानते हैं

खुद से खेती की राह पर

पुतुल देवी ने खुद से सब्जी की खेती करने का निर्णय लिया और अपनी 20 कट्ठा जमीन में आलू की खेती की शुरुआत की। महत्वपूर्ण है कि उन्होंने जेएसएलपीएस के महिला मंडल समूह से जुड़कर 1 रुपया सैकड़ा के ब्याज दर पर 30 हज़ार लोन प्राप्त किया। इस पूंजी से उन्होंने आलू के बीज, खाद, और कीटनाशक खरीदी, जिससे उनकी खेती में वृद्धि हुई।

आमदनी का सफर

पुतुल देवी की मेहनत और सही दिशा में कदम रखने ने उन्हें सालाना लाखों रुपए तक की आमदनी प्रदान कि है। उनकी आलू की खेती से वह एक सीजन में 40 से 50 हज़ार की आमदनी कर रही हैं।

जेएसएलपीएस ने की सहयता

जेएसएलपीएस की जिला पदाधिकारी, सोमेश कुमार, ने बताया कि इस योजना के अंतर्गत महिलाओं को स्वरोजगार के लिए ऋण प्रदान किया जा रहा है। इसमें महिलाएं 5 से 7 की संख्या में अपनी समूह बनाती हैं और जेएसएलपीएस द्वारा ब्याज दर पर ऋण प्रदान किया जाता है। इससे महिलाएं महीने महीने अपना ऋण चुका सकती हैं और स्वरोजगार में सक्षम हो सकती हैं।

Tags:
Next Story
Share it