बहुत कोशिश करके देख ली लेकिन फसलों से नहीं मिल रही उचित पैदावार, गेहूं के पत्तों में पीलेपन को करें जड़ से समाप्त, इन उपायों से

फूलने लगे शाखाओं के साथ बाली निकालने से 10 दिन पहले, इस स्टेज में उचित खाद और न्यूट्रिशन प्रदान करें।

बहुत कोशिश करके देख ली लेकिन फसलों से नहीं मिल रही उचित पैदावार, गेहूं के पत्तों में पीलेपन को करें जड़ से समाप्त, इन उपायों से
X

बहुत कोशिश करके देख ली लेकिन फसलों से नहीं मिल रही उचित पैदावार, गेहूं के पत्तों में पीलेपन को करें जड़ से समाप्त, इन उपायों से

किसान भाइयों का सपना होता है कि उनकी फसल अधिक पैदावार देकर अधिक मुनाफा दे। लेकिन कई बार, सही मार्गदर्शन के बजाय, उन्हें फसलों में आवश्यक माइक्रोन्यूट्रिएंट्स और उपचारों का सही समय पर लाभ नहीं होता है। यहां हम गेहूं की पैदावार बढ़ाने के लिए एक्सपर्ट सुझावों की चर्चा करेंगे।

गेहूं की पैदावार के मुख्य चरण

गेहूं में सात मुख्य चरण होते हैं, जिनमें से प्रत्येक में विशेष खाद और माइक्रोन्यूट्रिएंट्स की आवश्यकता होती है। इन चरणों को समझकर हम फसल को उच्च पैदावार में मदद कर सकते हैं।

कटाई

फसल की कटाई के बाद, 20-25 दिनों के बीच राजमार्ग संस्थान स्टेज में सिंचाई करना शुरू करें।

क्राउन रूट इनिशिएशन स्टेज

इस स्टेज में माइक्रोन्यूट्रिएंट्स का स्प्रे करना शुरू करें, जिससे पौधा अच्छे से विकसित हो।

पैनिक इनीशिएशन स्टेज

फूलने लगे शाखाओं के साथ बाली निकालने से 10 दिन पहले, इस स्टेज में उचित खाद और न्यूट्रिशन प्रदान करें।

गेहूं में सही स्प्रे

गेहूं टिलरिंग में NPK-191919 की 1 किलोग्राम प्रति एकड़ और गेहूं पीला होने पर 100-120 ग्राम चेल्टेड जिंक देना फायदेमंद हो सकता है। पानी निकालने से पहले NPK-05234 और बोरोन 100-150 ग्राम प्रति एकड़ स्प्रे करें। बाली निकालने के बाद, 1 किलोग्राम NPK-0050 प्रति एकड़ और 100-150 ग्राम बोरोन के साथ स्प्रे करें।


गेहूं की अच्छी पैदावार के लिए सही समय पर खाद और माइक्रोन्यूट्रिएंट्स देना अत्यंत महत्वपूर्ण है। यह सुनिश्चित करेगा कि पौधा सही रूप से विकसित होता है और आप अधिक पैदावार प्राप्त कर सकते हैं।

आप समर्थन के लिए कमेंट करके हमसे संपर्क कर सकते हैं।

Tags:
Next Story
Share it