योगी का जाट लैंड में ग्राम परिक्रमा यात्रा का आगाज, बीजेपी का लोकसभा चुनाव 2024 के लिए बड़ा दांव

Lok Sabha Election 2024 UP: सीएम (Yogi Adityanath) योगी ने कहा कि पहले की सरकारों में नौकरी परिवार से बाहर नहीं जाती थीं. वहीं सीएम योगी ने पूर्व PM चौधरी चरण सिंह को भारत रत्न मिलने पर पीएम मोदी का धन्यवाद किया.

Yogi Adityanath
X

Yogi Adityanath

जाट लैंड में ग्राम परिक्रमा यात्रा

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने गुरुवार को मुजफ्फरनगर की तीर्थ नगरी शुक्रतीर्थ से ग्राम परिक्रमा यात्रा का शुभारंभ किया। यह यात्रा बीजेपी का लोकसभा चुनाव 2024 के लिए बड़ा दांव है, जिसके तहत दो लाख गांवों की बीजेपी के कार्यकर्ता और नेता पीएम मोदी की गारंटी के साथ परिक्रिमा करेंगे। इस यात्रा के दौरान बीजेपी सरकार के विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों से संवाद किया जाएगा और उन्हें सम्मानित भी किया जाएगा।

इस लेख में हम आपको बताएंगे कि जाट लैंड में ग्राम परिक्रमा यात्रा का क्या मकसद है, इसके तहत कौन-कौन से कार्य किए जाएंगे, और इससे बीजेपी को किस तरह का फायदा होगा।

ग्राम परिक्रमा यात्रा का मकसद

- ग्राम परिक्रमा यात्रा का मुख्य मकसद है कि बीजेपी के कार्यकर्ता और नेता गांव-गांव जाकर किसानों और ग्रामीणों के साथ जुड़ें और उन्हें बीजेपी सरकार के विकास के कार्यों का जायजा दें।

- इस यात्रा के दौरान बीजेपी के कार्यकर्ता और नेता गांवों के चौपालों, खेतों, आँगनवाड़ियों, आशा केंद्रों, शिक्षा संस्थानों, स्वास्थ्य केंद्रों और अन्य सार्वजनिक स्थलों पर जाकर लोगों से बातचीत करेंगे।

- इस यात्रा के तहत बीजेपी के कार्यकर्ता और नेता लोगों को पीएम मोदी की गारंटी का पत्र भी देंगे, जिसमें बीजेपी सरकार के नौ संकल्पों का उल्लेख है। ये संकल्प हैं:

- गांवों में बिजली, पानी, सड़क, इंटरनेट और अन्य आधुनिक सुविधाओं का विकास

- किसानों को उचित मूल्य, बीमा, सिंचाई, उर्वरक, बीज और अन्य सहायताओं का प्रबंधन

- गांवों में स्वास्थ्य, शिक्षा, रोजगार, आवास, पेंशन और अन्य सामाजिक सुरक्षा योजनाओं का लाभ

- गांवों में महिलाओं, बच्चों, वृद्धों, दलितों, पिछड़ों, आदिवासियों और अन्य अल्पसंख्यकों के अधिकारों और सम्मान की रक्षा

- गांवों में खेती, पशुपालन, डेयरी, मछली पालन, खनिज, वन उत्पाद, शिल्प, व्यापार और पर्यटन के क्षेत्रों में आय के नए स्रोतों का निर्माण

- गांवों में जैविक खेती, नवीन प्रौद्योगिकी, उर्जा संरक्षण, पर्यावरण संरक्षण, जल संरक्षण, जलवायु परिवर्तन और आपदा प्रबंधन के क्षेत्रों में जागरूकता और सक्रियता

- गांवों में सांस्कृतिक, धार्मिक, ऐतिहासिक और पर्यटन स्थलों का संवर्धन और संरक्षण


Tags:
Next Story
Share it