Village Business ideas: गांव के चार किसानों ने छप्पर में बनाई कंपनी, लाखों की कमाई देख ग्रामीण हो गए हेरान, जानिए इनका गजब आइडिया

Subhash Hudda
By Subhash Hudda

Village Business ideas: गांव के चार किसानों ने छप्पर में बनाई कंपनी, लाखों की कमाई देख ग्रामीण हो गए हेरान, जानिए इनका गजब आइडिया

Village Business ideas: खेत खजाना, नई दिल्ली, भारत का ग्रामीण हिस्सा सदियों से कृषि पर आधारित रहा है लेकिन बदलते वक्त के साथ अब यहाँ नई नई तकनीक और उद्यमिता की नई कहानियाँ उभर रही हैं। महाराष्ट्र के एक छोटे से गांव के किसानों ने एक अनूठा बिजनेस मॉडल अपनाकर यह साबित किया है कि “जहां चाह, वहां राह।”

छप्पर के नीचे जन्मा अनोखा बिजनेस
दीपक, शिवाजी, सचिन और सुधीर ये चारों नाम किसी बड़ी कंपनी के सीईओ या एमडी के नहीं, बल्कि महाराष्ट्र के एक छोटे से गांव के साधारण किसानों के हैं। इन चारों ने मिलकर अपने गांव के छप्पर के नीचे एक प्रोसेसिंग यूनिट स्थापित की है, जो गन्ने के जूस को विभिन्न मूल्यवान उत्पादों में बदलती है। उनके इस गजब के आइडिया ने न केवल स्थानीय समुदाय को चकित किया है, बल्कि अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में भी अपनी नई पहचान बनाई है।

गन्ने के जूस से बनते हैं ये अद्भुत उत्पाद
गन्ने का जूस यूं तो एक आम पेय पदार्थ है, लेकिन इन किसानों ने इसकी प्रोसेसिंग करके इसे कई उत्पादों में बदल दिया है जो स्वास्थ्य वर्धक होने के साथ-साथ स्वादिष्ट भी हैं। इनके मुख्य उत्पादों में शामिल हैं-

फ्रोजन गन्ने का जूस: यह शुद्ध गन्ने के जूस को डीप फ्रीजर में जमा कर तैयार किया जाता है। गर्मियों में यह पेय विशेष रूप से ताजगी और ऊर्जा प्रदान करता है। फ्रोजन जूस की आजकल बहुत डिमांड है और यह प्रोडक्ट दुबई जैसे अंतर्राष्ट्रीय बाजारों तक भी पहुँच रहा है।

गन्ने के जूस की चुस्की: बिना किसी केमिकल या अतिरिक्त मीठे के, सिर्फ गन्ने के जूस से बनी यह चुस्की अपने अद्वितीय स्वाद और स्वास्थ्यवर्धक गुणों के कारण लोकप्रिय हो रही है। यह खासकर बच्चों और स्वास्थ्य के प्रति सजग लोगों के बीच बहुत पसंद की जा रही है।

मावा कुल्फी और आइसक्रीम: गन्ने के जूस और दूध को मिलाकर बनाई गई यह मावा कुल्फी और आइसक्रीम एक अद्भुत स्वाद का अनुभव देती है। इसे खास त्योहारों और गर्मी के मौसम में अत्यधिक पसंद किया जाता है।

हर्बल चाय: गन्ने के जूस के साथ दालचीनी, लौंग, तुलसी के पत्ते, अदरक, और लेमन ग्रास मिलाकर बनाई गई यह हर्बल चाय न केवल स्वादिष्ट है बल्कि सेहत के लिए भी फायदेमंद है। इसे फ्रोजन करके रखा जाता है, जिससे इसे लंबे समय तक इस्तेमाल किया जा सकता है। बस इसे डीफ्रीज करें और गर्म करके पिएं।

कैसे बनते हैं ये बेहतरीन उत्पाद?
इन किसानों द्वारा स्थापित प्रोसेसिंग यूनिट में, हाइजीन का खास ध्यान रखा जाता है। भले ही यह यूनिट छप्पर के नीचे स्थापित की गई हो, लेकिन यहां सभी कार्य उच्चतम हाइजीन और शुद्धता के साथ किए जाते हैं।

शुद्धता और हाइजीन:

किसानों ने सुनिश्चित किया है कि सभी प्रक्रियाएं FSSAI के नॉर्म्स के तहत हों।
उन्होंने पैकेजिंग और मार्केटिंग में विशेषज्ञता प्राप्त करने के लिए विशेष प्रशिक्षण भी लिया है।

Share This Article